मंगलवार, 25 जुलाई 2017

और, पिताजी चिल्लाये--'मिल गया, मिल गया!'...

उन दिनों पिताजी (पुण्यश्लोक पं. प्रफुल्लचन्द्र ओझा 'मुक्त') 'सेलेक्टेड वर्क्स ऑफ जवाहरलाल नेहरू' के नौवें या ग्यारहवें खण्ड का अनुवाद कर रहे थे। वे दिल्ली-प्रवास के दिन थे।... जवाहरलालजी की अंग्रेजी के क्या कहने! वह अंग्रेजों से अच्छी अंग्रेजी बोलते-लिखते थे--यह तो जगजाहिर है। एक पूरा अनुच्छेद अल्प विराम, अर्द्धविराम, कोलनों, डैशों-हाइफनों के सहारे रचा गया--मात्र एक वाक्य! हिन्दी-अनुवाद में उन सारगर्भित विशाल वाक्यों को तोड़कर छोटे-छोटे वाक्यों में रखना सचमुच श्रमसाध्य और दिमाग का दही बना देनेवाला कष्टकर कार्य था। उस पर तुर्रा यह कि 'नेहरू शांति प्रतिष्ठान' के मंत्री श्रीकर्ण सिंह ने पिताजी से कभी कहा था--"पण्डितजी, 'नेहरू वाड्.मय' तो अथाह समुद्र है। आप अनुवाद करते चलिये, आपकी अनुवाद-भाषा नेहरूजी की हिन्दुस्तानी के बहुत करीब है।" लिहाजा अनुवाद हिन्दी में नहीं, हिन्दुस्तानी भाषा में करना था।...

जब मैंने यह प्रकरण पिताजी से सुना तो पूछा उनसे--'हिन्दुस्तानी भाषा का क्या मतलब?' उन्होंने उदाहरण देते हुए मुझे समझाया था--"अब देश का भविष्य सुरक्षित है।' अगर यही वाक्य नेहरूजी को कहना होता तो वह कहते--'अब वतन का मुस्तक़बिल महफ़ूज़ है।" बात मेरी समझ में थोड़ी-बहुत पहले भी थी, अब स्पष्ट हो गयी। पिताजी अनुवाद बोलकर भी लिखवाते थे और उनका लिपिक तो मैं था ही। जब मैं दफ़्तर चला जाता तो यह दायित्व मेरी श्रीमतीजी निभातीं। जब कोई उनकी सहायता को उपलब्ध न होता तो पिताजी स्वयं लिखते।
अनुवाद के इसी काम में पिताजी दत्तचित्त होकर लगे हुए थे। पुस्तक अधिया गयी थी। पिताजी इसे शीघ्र समाप्त करना चाहते थे। पुस्तक के प्रकाशक 'सस्ता साहित्य मण्डल' का ऐसा अनुरोध भी था। चौबीस घण्टों में सोलह घण्टे वह इसी काम में जुटे रहते थे, तभी नेहरूजी का एक वाक्य व्यवधान बनकर सामने आया--"The National Herald has published my version by putting dots on i's and cutting t's."
यह अंग्रेजी भाषा में प्रयुक्त होनेवाला एक मुहावरा (फ्रेज़) था, जो हिन्दी की प्रकृति से भिन्न था। यहीं, इसी वाक्य पर अनुवाद की गाड़ी ठहर गयी। पिताजी दो दिनों तक सोचते रहे कि "putting dots on i's and cutting t's." का अनुवाद क्या हो। उन्होंने कई तरह से वाक्य-रचना को तोड़-मरोड़कर और सजा-सँवारकर देख लिया था, लेकिन उन्हें संतोष नहीं हो रहा था। अंततः उन्होंने अपने उन मित्रों से परामर्श लेना उचित समझा जो हिन्दी के अलावा अंग्रेजी के भी निष्णात विद्वान् थे।

समय लेकर पिताजी सबसे पहले डाॅ. नगेन्द्र से मिले, फिर बच्चनजी से, तत्पश्चात् अज्ञेयजी से। सबों ने एक स्वर में कहा कि "इसमें ऐसी क्या मुश्किल है, इस वाक्य का अर्थ तो स्पष्ट ही है कि 'नेशनल हेराॅल्ड ने मेरे कथन में नमक-मिर्च लगाकर, रद्दोबदल करके प्रकाशित कर दिया।" पिताजी ने तीनों मित्रों से कहा भी--'भई, इतना तो मैं भी समझता हूँ, लेकिन इससे मुझे संतोष नहीं होता। चाहता हूँ, नेहरूजी ने वाक्य-रचना में जिन शब्दों और मुहावरे के चयन से जैसा प्रभाव उत्पन्न किया है, कुछ वैसा ही चमत्कार हिन्दी-अनुवाद में भी प्रकट हो।'...
पिताजी अपने विद्वान् मित्रों से मिलकर निराश लौट आये, जिज्ञासा का निवारण न हुआ और अनुवाद रुका रहा। पिताजी का निर्बाध एकांत चिंतन चलता रहा। दो दिन बीत गये। एक रात मैंने पिताजी से इतना-भर कहने की हिम्मत जुटायी--'बाबूजी, सबों ने ठीक ही तो कहा है, आप वही लिखकर आगे क्यों नहीं बढ़ चलते, जो अज्ञेयजी, बच्चनजी या डाॅ. नगेन्द्र ने कही है?'
पिताजी ने मुझे समझाया--'हाँ, वैसा ही लिखकर बढ़ चलूँ तो मेरा गिरेबाँ आखिर कौन पकड़ेगा? किसे फुर्सत है? और, वैसा ही लिख देने में आपत्तिजनक भी तो कुछ नहीं; फिर भी मुझे संतुष्टि नहीं होगी। जानता हूँ, अंग्रेजी और हिन्दी की प्रकृति भिन्न है, इसके बाद भी मानता हूँ कि अनुवाद में नेहरूजी के कथन की प्रभाव-छाया तो होनी ही चाहिए।'...

मैं निरुत्तर था। दूसरे दिन, बहुत तड़के, पिताजी अर्किमेडीज़ की तरह चिल्लाये--'मिल गया, मिल गया!' हम सभी उनके कमरे की ओर यह जानने के लिए भागे कि उन्हें आखिर मिल क्या गया है। उनके पास पहुँचने पर ज्ञात हुआ कि उन्हें उस व्यवधानी वाक्य का अनुवाद मिल गया था और वह कितने प्रसन्न थे, यह उनकी मुख-मुद्रा पर स्पष्ट अंकित था। उन्होंने हमें बताया कि नेहरूजी के वाक्य से भी अधिक प्रभावी और वज़नदार वाक्य उन्होंने हिन्दी में ढूँढ़ निकाला है और वह है--"नेशनल हेराॅल्ड ने मेरे कथन में बिंदु-विसर्ग लगाकर प्रकाशित कर दिया है।"

पिताजी का कहना था कि अगर 'आई' पर अनुस्वार न लगाया जाए तो उसे 'ई' पढ़ा जा सकता है और अगर 'टी' को काटा न जाये तो वह 'एल' हो जाएगा, लिहाज़ा आई और टी में अनुस्वार और कट मार्क लगा ही रहता है, उसे अलग से लगाना नहीं पड़ता, लेकिन हिन्दी में बिंदु और विसर्ग अलग से लगाने होते हैं।

अब पिताजी संतुष्ट थे। अनुवाद की रुकी हुई गाड़ी आगे चल पड़ी। अनुवाद-कार्य इतना आसान भी नहीं होता, वह घोर परिश्रम, कठिन साधना, एकाग्रता, अनुशासन, मनोयोग और वज्रासन की माँग करता है; लेकिन, एक वाक्य के लिए पिताजी की अतिचिंता, अति-चिंतन और व्यग्र दौड़-भाग मुझे चकित करती है। जब कभी यह प्रसंग याद आता है, उनका प्रफुल्लित मुख-मण्डल मेरी आँखों में तैरने लगता है और उन्हीं से बार-बार सुना हुआ यह संस्कृत श्लोक कानों में गूँजने लगता है--
'एकः शब्दः सम्यग्ज्ञातः शासन्वितः।
सुप्रयुक्तः स्वर्गे लोके कामधुग्भवति।'

मैंने अपने जीवन में तीन ऐसे मनस्वी साधकों के दर्शन किये हैं--एक पिताजी, दूसरे हंसकुमार तिवारी और तीसरे श्री श्रीरंजन सूरिदेवजी--ये तीनों शब्द-साधक जब वज्रासन में होते तो जीवन-जगत् से निर्लिप्त हो जाते और घण्टों अक्षरों से मल्लयुद्ध करते रहते--एकाग्रचित्त होकर!
निःसंदेह, पिताजी भी शब्द में विराजनेवाली ब्रह्म-सत्ता के एकनिष्ठ उपासक थे।...

[चित्र : अपने घर के स्टूडियो में अज्ञेयजी का लिया हुआ उसी कालखण्ड का चित्र ; 1977-78 का.]

2 टिप्‍पणियां:

Dilbag Virk ने कहा…

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 27-7-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2679 में दिया जाएगा
धन्यवाद

Pushpendra Dwivedi ने कहा…

ati sundar lekh